सीडीएस बिपिन रावत को श्रधांजलि

सीडीएस बिपिन रावत को श्रधांजलि

सीडीएस बिपिन रावत को श्रधांजलि

भारत के सी डी एस बिपिन रावत आचानक हमलोगो को छोड़कर चले गये। आज जब सीमा पर दुश्मन खड़ा हमे चुनौती दे रहा है। तो ऐसे आनुभवी व्यक्ति की खास जरुरत होती है। इनकी दुरदर्शी सोच के कारण भारत को काफी लाभ हुआ। आनेवाली संभावना के प्रति बराबर सचेत रहते थे। अपने को हमेशा नयी सुचना से अपग्रेड रखते थे।

कहते है घटना से जो लड़कर निकलता है, ओ आगे डटकर रहता है, लेकिन उनकी कमी हमेशा हमलोगो को खलती रहेगी। उनके काल खण्ड मे गलवान की झरप, मयांमार सर्जिकल स्ट्राईक तथा पाक सर्जिकल स्ट्राईक जैसे साहसिक कार्य हुये। जिससे की हमारे सेना का आत्म सम्मान बढ़ा।बिश्व के देशों ने हमारे राष्ट्र के प्रति प्रतिवद्धता को सराहा।

राष्ट्र को सर्वोपरी मानने वाले ऐसे लोगो को राष्ट्र कभी भुला नही पायेगा। इस घटना मे मारे गये सारे वीर जवान को हम श्रधा सुमन अर्पित करते है। उनके परिवार को नयी चुनौती से लड़ने को भगवान शक्ति दे । आज के चुनौती पुर्ण समय से निकलने के लिए राष्ट्र को शक्ति दे प्रभु। जय हिन्द।

नोटः यदि आपको यह लेख अच्छा लगे तो अपना कोमेंट अवश्य लिखें। साथ ही आपनो तक इस संदेश को पहुँचाये जिससे की उनको आपके मनोभाव का संज्ञान हो। यह हिन्द

लेखक एवं प्रेषकः अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को अवश्य पढ़ेः-

  1. सीडीेएस बिपिन रावत को श्रद्धांजलि हमे भारत के प्रति आगाध प्रेम की ओर प्रेरित करता रहेगा। काव्य लेख पढे।
  2. दोस्ती का सफर श्रद्धांजलि एक आत्मियता के भाव को दर्शाता काव्य लेख प्ररित करता है, व्यवस्थित रहने के लिए।
  3. दोस्त को श्रद्धांजलि यदी उनको असामयिक शरीरिक यात्रा छोड़ना पड़े तो एक चिंतन बनता है। यह काव्य लेख एक चिंतन को कहता है।
  4. यादों का सफर एक यात्रा की कहानी का योग है जिसमें विकाश की यात्रा का महोक वर्णन है। काव्य लेख संकलन को देखें।
  5. स्वर कोकीला को लता मंगेशकर को योद करके स्वयं को विकाश की ओर अग्रसर होना एक गुणात्मक योग है।

By sneha

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!