मॉ वरदान दो

मॉ वरदान दो

ज्ञान की तरलता से हम सब परिचित है। ज्ञान का स्वध्याय तुलनात्मक है। इसके कारण इसके धारण मे बिविधता देखने को मिलती है। बास्तविक ज्ञान की आज भी खोज जारी है। मानव का चंचल मन जहां तक तरंगित हो पाता है हमारी जानकारी वही जाकर सिमित हो जाती है। मानव के मन के स्थिर करने तथा सुखमय जीवन निर्वाह के आगे हम सोच भी नही रहे।

    ये अनन्त आकाश आज भी हमारे सोच से परे है। जब ये भाव मन मे आता है तो मन गुणित होने लगता है। इस गुणित मन को व्यवस्थित करने का योग जिसे मिलता है वह गुणी बन जाता है। जिसके बाद उसका प्रकाश फैलने लगता है। कहा जाता है कि ज्ञान की प्राप्ति का कोई सटिक तरीका नही है। आप इस प्रयास मे लगे रहे एक न एक दिन आपको मिल जायेगा। लेकिन इसकी निश्चित समय सिमा को बलता पाना संभव नही है।

    अनुभवी लोगो के व्याख्या से प्राप्त बिषय को हम सिखते सिखाते चले जाते है, लेकिन बदले परिस्थिती मे जाकर उलझ जाते है। बास्तविक ज्ञान वाले का उलझाव नही होता है। इसको पाने के लिए नियमित प्रयास जारी है। इसके तहत ही हम भाव प्रधान माता सरस्वती जी कि अराधना करते है।  इनमे हमको समस्त भाव का भान होता है। जिससे हमारी भाव शक्ति की समग्रता का भाव उत्पन्न होता है। यह एक दृढ़ योग है। इसके स्थिरता से ही हमे ज्ञान के प्रकाश का भान होने लगता है। कोई ऐसा भाव जो हमे उध्वेलित कर दे, जिससे हमारी कुंडली जागृत हो जाये और हम ज्ञान को हासिल करने के प्रति आरुढ़ होकर ज्ञानी बन जाये।

   माता से बरदान की इच्छा हमारी सतसंग का ज्ञान है जो हमे रोशनी की ओर धकेल रहा है। हमे माता से इस अनंत से आती रोशनी को पाने की इच्छा ही बरदान का अभिप्राय है। बिभिन्न योग के द्वारा प्राप्य उर्जा से हम स्वयं को उर्जावान करने की चेष्टा कर रहे है। बरदान मे माता की सम्पुर्ण योग का भान हमारे उत्साह को उच्चतर करता जाता है। यही उच्यता हमारी ज्ञान के परम को प्राप्त कर देगा।

प्रत्येक बर्ष का एक खास दिन होता है जब यह योग पुरे चरम पर होता है। नित किया जाने वाला से प्राप्त कौशल के दिर्ध का यह समय होता है। जहां से हमे कुछ नवनित बिचार को आने का अनन्द प्राप्त होता है।

     माता से हमारी ये याचना हमे शक्ति से भर दे रहा है। हमे अपने आत्मिय यात्रा से लेकर जीवन के बिभिन्न स्वरुप के योग का भान के साथ हमारा तेज प्रखर होने लगा है। साधना का मार्ग अपनाकर हम उस दिव्य शक्ति को पा सकते है जहां से हमे फिर पिछे मुड़कर देखना नहीं परेगा। याचना का ये भाव आपके मन को भी जागृत करेगा। जितना आपका बिचार शक्ति दृढ़ होगा उतना ही आपको मार्ग आसान लगने लगेगा। इस काव्य लेख के पाठन मात्र से आपके कुंडली मे संलयन होने लगेगा यदि आप मे नियंत्रण का भान है तो आप जरुर स्वयं को उर्जावन कर लोगे। ऐसा मेरा विश्वास है।

  नोटः- आप अपने बिचार का पिटारा जरुर खोलें और कॉमेट बॉक्स मे बिचार लिखें। मुझे आपका सानिध्य प्राप्त होगा और मै अपनी ओर से आपको नमस्कार कहता रहुँगा।

लेखक एवं प्रेषकः अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को जरुर पढ़ेः-

1. आरती लक्ष्मी जी नया आरती 2021 है जो हमारे माता के प्रति आगाध श्रद्धा को व्यक्त करता है, दिव्य रुप को दर्शाता यह नया आरती का गान करें।

2. दुर्गा माता की आरती नया आरती 2021 माता के दिव्य रुप के हृदय के पास लाकर माता की आराधना को व्यक्त करता आरती का गान जरुर करें।

3. करवा चौथ का पर्व हम पुरी श्रद्दा एवं विश्वास के साथ मनाते है इस काव्य लेख को जुरुर देखे जिससे की आपका पर्व के प्रती निष्ठा मे प्रगाढ़ता आये।

4. कृष्णाष्टमी पर्व मे भगवान कृष्ण की दिव्य दर्शन की सिख को समाहित यह काव्य लेख आज के संदर्भ मे जोड़कर कहा गया है।

4. तीज का पर्व भारत मे परमपरा के साथ मनाया जाने वाला पर्व है इसके बिभिन्न रुप का काव्य वर्णन देखें।

5. विश्वकर्मा पुजा हमारी भक्ति भाव सतत रुप है जिससे हम नयेपन की कामना करते है, इस भाव के दर्शाता काव्य लेख देंखें।

6. पहला सोमवारी ब्रत, दुसरा सोमवारी ब्रत, तीसरा सोमवारी ब्रत, चौथा सोमवारी ब्रत के भक्ति रुप का वर्णन तथा हमारी कामना को दर्शाता यह काव्य रचना एक अनुपम कृती है।

7. आनन्द चतुर्थी का पर्व धागा बन्धन का पर्व है जो हमे हमारी भाव को एक नये आयाम मे श्रजन करता है ।

By sneha

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!