सुबोध जी का 26वॉ जन्मदिन

सुबोध जी का 26वॉ जन्मदिन

जन्मदिन के बधाई को बिचारोंं मे संग्रहित करना कठिन है। फिर भी एक रेखा तो खिंचनी होती है जिससे कि पथिक के आने वाले समय के बारे मे विश्वास तथा आशा बन्ध सके। वैसे तो विवेकी मानव स्वयं ही गुणित बिचारधारा मे उलझा रहता है। नित होने वाले परिवर्तन से उसको सामना करना पड़ता है। इसके बाद भी उसका निर्धारित लक्ष्य के तरफ बढ़ना यदि सतत जारी है तो उसे कर्मयोगी कह सकते है। कार्मयोगी का अपना विश्वास ही उसका सबसे बड़ा हथियार होता है, जिससे की वह अपने कर्म पथ को रौशन करता जाता है।

आपका मार्ग शरीर से आत्मा को समझने की ओर अग्रसर है, इस तत्वज्ञान को सझमने मे जिस साधना की जरुरत होती है, उस ओर आप अग्रसर दिखाई देते है। आपका सदा भला हो। आप अपने पथ पर चलते हुए मावन कल्याण के कार्य को करते रहे जिससे की गुण की धारीता का प्रवाह बना रहे। गुण मे निखार का रुप निःस्वार्थ समाज सेवा से ही आता है। समाज मे इसका मुल्यांकण समय-2 पर होता रहता है, तथा गुण की प्रकाष्ठा बढ़ती जाती है। आपके साथ ही ऐसा होता रहे इसकी कामना हम करते है।

हे साधक तुम निष्ठा पुर्वक अपने कर्म पथ पर आगे बढ़ते जाओ। मार्ग मे आनेवाला वाधा से जब तुम्हारा सामना होगा तो तुम्हारे गुण का प्रकाश रौशन होने लगेगा। तुम्हारे यथेष्ठ प्रयास की सराहना ही तुम्हारा आशिर्वाद होगा जिससे की तुम्हारा मनोवल शक्तिवान होता रहेगा। इससे बनने वाला आभामंडल की शक्ति गुणित होने लगेगी। तुम्हे बिकट दिखने वाला ध्येय पथ आसान लगने लगेगा। यहीं से तुम्हारी अध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत होगी। तुम्हारा यही यात्रा एक दिन लोगो को उध्वेलित करेगा। यह उध्वेग ही तुम्हारे आत्म शक्ति का ध्योतक बनेगा। आपका सतत कल्याण हो इसकी कामना हम माता गायत्री से करते है।

हे मॉ आपके सुत्र से भी जन्मदिन की शुभकामना मिलती है, इसको जानकर मेरा मन भी अहलादित होने लगा। आपका भक्त आपके अनन्य भाव से लाभान्वित होते देख मेरा ह्रदय भी भावविहल हो गया। यह बिशिष्ट योग सबको प्राप्त हो इसकी भी कामना हम करते है। हम अपने लेख के माध्यम से लोगो से यह अनुरोध करते है कि माता गायत्री से भी अपने जन्मदिन पर आशिर्वाद प्राप्त करे। मंगलकामना का ये योग इस पाठ के पढ़ने वालो को भी प्राप्त हो मॉ यह अनुरोध हम आपसे करते है। यह मॉ गायत्री।

नोटः- यदि यह काव्य लेख आपको आहलादित करे तो आपना कॉमेंट जरुर लिखे जिससे की लोगो को आपसे जुड़ने का मार्ग मिले। जय हिन्द

संबंधित लेख को जुर पढ़ेः-

  1. सोलहवॉ जन्मदिन विकाश बावू का हमे उनके उत्साहित जीवन के योग मार्ग का पता चलता है, यह समय बड़ी ही संयम का होता है।
  2. मॉ का जन्मदिन बच्चों के लिए यह यादगार पल होता है जिससे की जीवन के धारा का पता चलता है।
By sneha

One thought on “सुबोध जी का 26वॉ जन्मदिन

  • Subodh shastri -

    बहुत ही सराहनीय हम आपके सदा अभारी रहेंगे सर जी।
    आप अपना आशीर्वाद का एक कण सदैव हमारे जीवन में देते रहे जय महाकाल।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!