आरती लक्ष्मी जी की

आरती लक्ष्मी जी की

Bhakti poem

धन की कामना सुख के साधन को दर्शाता है। भौतिक जीवन की सुख की कामना को पुरा करने के लिए धन की आवश्कता होती है। धन की आवाध प्रवाह बना रहे इसकी कामना हम करते है, जिससे की जीवन की सुख की धारा को बनाये रखा जा सके। इस भाव को कार्य रुप देने के लिए हम लगातार प्रयासरत रहते है। यही प्रयास हमे दिव्य रुप माता को याद करने के लिये प्रेरित करता है। 2021 लक्ष्मी माता की आरती इसी भाव को दर्शाता है। माता हमारे सामने है और हम माता से अपनी मनोकामना पुर्ति के लिए उनके शक्ति को जागृत करते है। हमारी कार्य उर्जा के क्रियांवयन का भाव माता को होता है और हमे माता का पुरा आशिर्वाद प्राप्त होता है।

आरती के पाठ करते समय तथा बाद मे हमारी मनोवृति मे जो उतार चढाव आता है, वही हमारी भक्ति शक्ति को दर्शाता है। यह नवीन आरती हमारी इसी लक्ष्य को पुरा करता है। माता के भाव को शब्द रुप मे व्यक्त करना बड़ा ही कठीन कार्य है लेकिन हमने एक समग्र भाव को सुचित करता हुआ आरती माता को समर्पित किया है। आप इसका जब पाठ करेंगे तो आप की भाव भी माता के प्रती सापेक्षता को नियमित करेगा। पुजा करने की आस्था के साथ-साथ लोगो का अपना एक आत्मिय जुड़ाव भी होता है, जिससे वह भावपुर्ण अभिव्यक्ति के द्वारा आपनी इच्छा की पुर्ती करता है। यह आरती इसी आकांक्षा को पुरा करता है। इस आरती के गायन से आपके अंदर जो भाव पुर्ण बिचार गढ़ता है, वह आपके कार्य उर्जा को बढ़ा देगा। आपका यही बृती ही आपके उत्साह को उच्च स्तर पे ले जायेगा। ये उत्साह आपके कार्य आनन्द को गुणित करेगा। जिससे आपके व्यपार मे प्रखरता आयेगी। यह प्रखरता आपके लक्ष्य को आसान कर देगा।

माता लक्ष्मी की स्थिरता बनी रही यह भाव भक्त के मन मे रहता है। समय के साथ होने वाला परिवर्तन उसके अनुरुप हो ऐसी कल्पना मन मे रहती है। इसी भाव को गढ़ता यह आरती आपके नित गायन के साथ आपके मनोभाव को रुपांतरित करेगा। इसमे माता के दिव्य तत्व का समावेश है जिससे की आपका समग्र बिकाश संभव है। आपके विश्वस की कुंजी आपके पास है। जितना सशक्त आपका विश्वास होगा उतना ही आपका प्रयास प्रवल होगा तथा उसी के अनुरुप आपका बिकास भी होगा। मनोयोग बना रहे इसलिए इसकी भावपुर्ण गायन जरुरी है। दिव्य रुप माता आपके अंदर के भाव को गुणित कर देती है, बस जरुरी है, आपको एक सशक्त भाव का निर्माण करना, जो धन के देवी माता लक्ष्मी जी को समर्पित हो, क्योकि आप की आसस्था इसी मे है।

कर्म प्रधान यह गायन कार्य के अनुरुप मनोयोग को बनाता भी है। इस आरती के माध्यम से हम माता के दिव्य रुप से उर्जावान होने का योग प्राप्त करते है। हमारा यह प्रयास ही हमे सबलता बना देता है। गुणकारी भक्त माता के प्रति अपनी अपार श्रधा को व्यक्त करने के लिए आरती लक्ष्मी जी का जो चयन करता है, उसकी हर मनोकामना माता पुरी करेगे ऐसा मेरा पुरा बिश्वास है। इस बिश्वस को योग माता के दर्शन भाव को जागृत करके की रचना की गई है।

गुणकारी होते हुए भी धन की लालसा का रहना भक्ति की कमी तथा मन की चंचलता का बना होता है। माता के प्रति भक्त की आपार भक्ति के कारण यह दोष दुर होकर भक्त को एक प्रभावकारी व्यक्ति बना देता है। आरती गायन के सामय शब्द के साथ-साथ दृष्टि का भी योग बना रहना जरुरी है। एकाग्र मन यदि भटकना भी चाहे तो आरती के शब्द की कड़ीयां उसे बांधे रखती है। यही गुण इस आरती को प्रभावकारी बनाता है।

हे माता लक्ष्मी आपका भाव जो भक्त के मन मे प्रस्फुटित हो रहा है उसका समायोजन हो, उसकी प्रखरता बनी रहे। भक्त की हर मनोकमना पुर्ण हो ऐसी कृपा बनाये रखना। कर्म करता मानव आपकी रचना मे न उलझे उसके ऊपर आप अपनी दृष्टि सदा बनाये रखना। इस आरती के गायन के साथ-साथ गुण के भी बिकाश भक्त करेगा जिससे की उसके धन की प्रवाह बना रहे। आरती तो आपको धायन मे रखकर ही भक्त करते है। हमारी भक्ति मे यदि कोई दोष हो तो वालक समझकर भक्त के प्रति आपनी क्षमा का भाव सदा कायम रखना। इसी कामना के साथ हम अपनी लेखनी को बिराम देते है। जय माँ लक्ष्मी।

नोटःः य़दि आपको यह आरती अच्छी लगे तो इसके लिंक को अपनो तक जरुर भेंजे जिससे की आपकी भक्ति को पुरा आकाश मिले। जय माँ लक्ष्मी।लेखक एवं प्रषकःः अमर नाथ साहु

लेखक एवं प्रेषकःः अमर नाथ साहु

1 thought on “आरती लक्ष्मी जी की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *