हवा का झोंका

हवा का झोंक

रुठने मनाने की एहसास को व्यक्त करता यह कविता हमारे दिल की व्यथा को जब कहता है तो हमे परिस्थिती से लड़ने के प्रती सावधान भी करता है। समय के साथ रहने तथा योगपुर्ण व्यवहार करत भी सिखलाता है।

Continue Reading