दुसरी सोमवारी कविता

Dusra Sombari

सावन की दुसरी सोमवारी शिव की आऱाधना का एक अदभुत संयोग की गाथा है। शिव के प्यार को पाने का एक सुखद संयोग भी है। मन से बिचार से तथा व्यवहार से शिव शक्ति को साधने का मार्ग सुगम करेने वाला समय है।

Continue Reading
पहला सोमबारी कविता

Pahala Sombari

भक्ति के भाव से परिपुर्ण यह महा पर्व लोगो के विश्वास और आस्था का जिता जागता प्रमाण है। शिव की महिमा का साक्षात प्रकटिकरण होता है। मनोभाव से लोगो की आस्था चरम पर रहती है। सकल मनोरथ पुरा करने का बड़ा ही संयोग होता है।

Continue Reading