दोस्त को श्रधांजली

दोस्त को श्रधांजली

दोस्त आपकी सम्पुर्ण यादो को पुर्ण रुप से संकलन करना संभव नही है लेकिन आपके यादो को एक रुप देकर आपनो तक संदेशा पहुंचाना जरुरी है। ताकि सबके भाव एक दुसरे मे समाहित हो जाये। हमारे द्वारा यह काव्य संकलन इसीमे किया गया एक छोटा सा प्रयास है। दोस्त के खालीपन को भरना संभव नही […]

Continue Reading
स्वाभिमान

स्वाभिमान

अपने कार्य की प्रखरता को बनाये रखने के लिए हम जो प्रयास करते है, तथा जिससे हमारा विश्वास बनता है। हमारा स्वाभिमान कहलाता है। हमे अपने आप पर पुर्ण बिश्वास होता है। हम हर परिस्थिति का समाना करने की सामर्थ रखते है। जिससे की हमारा बिश्वास का लेवल काफी उँचा हो जाता है। इसको बनाये […]

Continue Reading
यादों का सफर

यादों का सफर

योदों का सफर बड़ा लम्बा होता है। हमारे सफर की धुंधली तस्वीर हमारे मस्तिष्क मे लम्बे समय तक सुरक्षित रहत है। इस सफर का कुछ पहलु ऐसा होता है जो हमारे अनुभव का भाग बन जाता है। जिवन यात्रा मे जहां हमें कठीनाई का सामना करना पड़ता है और हम कोई सहारा ढ़ुढ़ते लगते है […]

Continue Reading
महरानी भगवती मंदिर

महरानी भगवती मंदिर

महरानी भगवती मंदिर की स्थापना समाज मे व्याप्त दैविक कष्ट को दुर करने के उदेश्य से किया गया है। देव शक्ति स्वंय शक्ति रुप मे प्रकट होती है तथा लोगो की शिकायत का निवारण करती है। लोग भक्ति भाव से प्रभावित होकर माता को चढ़ावा भेंट करते है। जिससे मंदिर के बिकाश के साथ-साथ समाज कल्याण की भावना का बिकाश होता है।

Continue Reading

देवी देवता

देवी देवता परिचयः- देवी-देवता का स्थान भारतिये समाज मे बहुत गहरा है। लोगो के भावनाओ के साथ इसका गहरा समबन्ध है। सामाजिक स्तर पर एक पुरा ढ़ाचा का बिकास हो गया है। इसमे लोगो की भावना कुट कुट कर भरी हुई है। जिस समस्या का समाधान हम आसानी से खोज लेते है, अर्थात जो हमारी […]

Continue Reading
45 वाँ एनुवर्षरी

मामा जी की 45 वाँ एनिवर्षरी

एनिवर्शरी को मनाने का सामान्य प्रचलन भारत मे नही है। फिर भी समय के साथ लोगो को इसमे दिलचस्पी बढ़ती जा रही है। तनाव भरी जिवन के आजकल के इस दौर मे लोगो को कुछ समय मिल जाता है जब लोग सब कुछ भुलाकर अपनी एक नयी रंग मे रंग जाते है। खुशीयोँ को ताजा […]

Continue Reading
भाभी-के-साथ-रंग कविता

भाभी के साथ रंग

होली हिन्दुओ का एक प्रसिद्ध पर्व है जिससे आपसी बिद्वेश को कम करने रुप मे देखा जाता है। इससे एक पौराणिक कथा भी जुड़ा हुआ है। जिसमे होलिका का अंत हो जाता है तथा प्रहलाद को जिवन दान मिलता है। व्यवहारीक रुप मे होली आपसी भेदभाव को मिटाने का माध्यम बनता है। रिस्ते की बात […]

Continue Reading
नफरत का फल

नफरत का फल

नफरत हमारे एक ऐसा हथियार होता है जिसको बनाये रखने के लिए हमे लगातार मन मे बिचारधारा को चलाना पड़ता है तथा समय के घटना को फिल्टर पेपर की तरह छानना परता है तथा अपनी मानसिक बृति को संतोष देना होता है।

Continue Reading