आनन्द चतुर्दशी

Anand Chaturdasi

आनन्द के धागा बन्धाने का पर्व आनन्द भगवान को समर्पित है, जिसमे मु्ख्य पुजा भगवान बिष्णु की होती है। भगवान इस धागा को बांधने वाले के घर आनन्दित रहने का आर्शिवाद देतै है। महिला बाये तथा पुरुष इसे दाहिने हाथ मे बांधते है।

Continue Reading
विश्वकर्मा पुजा

Vishwakarma Puja

प्रकृति के रचनाकार एवं शिल्पकार विश्वकर्मा आज हमें शक्ति दो कि हम वर्तमान के चुनौती का सामना कर सके। मानव के विकाश की पराकाष्ठा दुसरे ग्रहो पर भी जाये ऐसी हमे उन्नती दो। मेरे अंदर एक उत्साह का भाव भर दो।

Continue Reading
Chaurchan poem

Chaurchan

पुत्र को दिर्धायु बनाने के लिए चौरचन पर्व को करती माता, समाज के शुद्ध स्वरुप को अपने पुत्र मे स्थापना की मांग करती है। निष्कलंक बिकाश की कामना भगवान गणेश से करती हुई ब्रत को पुरा करती है।

Continue Reading
तीज

Teej

पति के लिेए आयु मांगती पत्नी तीज करती है, और नाजुक रिस्ते मे नया रंग भरती है। माता पार्वती को समर्पित यह पर्व पुर्णतः निर्जला होता है।

Continue Reading
US troops leave Afghanistan

US troops leave Afghanistan

तिसरा बिश्व युद्द की शुरुआत के मध्यकाल का समय चल रहा है। इसके एक दुसरे को निचे दिखाने की होर है। अमेरिका का अफगानिस्तान छोड़ना इसी से प्रभावित है। नये बिचार की एक धारा को स्थापित करना एक बड़ी चुनौती है। इसको अमेरिका ने समय पर छोड़ दिया है।

Continue Reading