Happy Birthday

Happy Birthday

Happy Birthday

जन्मदिन मुबारक

जीव जगत मे जीवन को प्राप्त करने के बाद जीव को अनंत खुशी होती है, क्योकि उसके प्रारब्ध के समय का यह सबसे अच्छा काल होता है। इस समय मे जीवन को उदेश्यपुर्ण बनाते हुए अपने आत्मशक्ति से अपने आत्मा को शक्तिशाली बनाना होता है। जीव का जीवनचक्र नियत होता है इसी कालखण्ड मे ही जीव को अपनी सारी प्रकृया पुरी करनी होती है। यह काल खंण्ड प्रतिवर्ष के रुप मे जीव को उत्साहित करते रहता है। हर वर्ष को एक उत्सव के रुप मे मनाने की खुशी की शुरुआत जीव के जन्मदिन से हमत्वपुर्ण कोई और समय नही हो सकता है।

  जन्मदिन को एक नये समय की शुरुआत के तौर पर मनाया जाता है इस उम्मीद के साथ की आनेवाला समय उल्लासपुर्ण बिते। बन्धु बान्धवो के साथ यह समय उत्सव का हो जाता है जिससे की मानसिक बृती सही और नियोजित रहे। जीवन मे आने वाली बाधा को समझने की शक्ति का उत्साह भी यहां से जागृत होता है। इस दिन को कुछ लोग संकल्प शक्ति के रुप मे भी मनाते है जिससे की उनके जीवन को एक नियत गती दी जा सके। वर्ष के ये खास दिन बिते दिने की यादो को एक नये चुनौती के साथ समाना करने के लिए तैयार भी किया जाता है। बिते पल को भुलाकर एक नये उत्साह के साथ कुछ नया करने की जजवा के क्रियान्वित करने के पल को जन्मदिन के रुप मे याद किया जाता है।

खुशी हमारे शरीर के प्रत्येक भाग को स्पंदित कर देता है जिससे हमारे कार्यउर्जा का स्तर काफी उंचा हो जाता है। इसलिए कहा जाता है कि कार्य के साथ खुशी का होना जरुरी है। खुश रहने की प्रक्रति की कामना लेखक के द्वारा जन्मदिन पर की गई है जिससे की कार्य आनन्द के साथ जीवन को जीने की साधना बनी रहे जिससे यश और कृति दुर-दुर तक फैले।

जीन्दगी मे कुछ खास फैसले लेने होते है जिससे जीवन की दशा और दिशा दोनो बदल सकती है इसके लिए सशक्त रहने की जरुरत होती है। इसी के साथ जीव की मस्ती भी जुड़ी रहनी चाहिए यह मस्ती आगे बढ़ने की कार्यउर्जा का संपादन भी करती है। कार्यवाधा से होने वाली परेशानी को कम करने के लिए जो योग अपनाये जाते है उसके लिए व्यस्त रहने की जरुरत होती है। यदी किसी की सहायता की जरुरत होती है तो उसके लिए स्वयं को तैयार करना परता है। क्योकि किसी के साथ होने से कार्य के संयुक्त संपादन का दायित्व आता है। यह भाव समाजिकता को जन्म देता है और जीव को एक समाजिक जीवन की भाव के साथ जीवन मे आगे बढ़ने की ओर अग्रसर हो जाता है।

लेखक की कामना मुस्कान बनाये रखने की है क्योकि जीवन की बाधा को पार करते हुए जो आगे जाते उनकी आंतरिक तैयारी जबरद्स्त होती है, जो उसके सफलता के शुत्र गुढ़ते है। जो सफलता के बाद उसके मुस्कान को एक नये गुणकारी भाव के रुप मे सामने आता है। यही से उल्लासित जीवन योगपुर्ण बन जाता है।

जन्मदिन से जीवन की होने वाली शुरुआत बड़ो के आशिर्वाद से शुरु हो तो व्यक्ति को बिध्नता को दुर करने मे एक अदभुत ताकत मिलती है वह ये की बिश्वास व्यक्ति को संयुक्त करता है और एक अदम्भ उर्जा से भर देता है। जिससे जीवात्मा स्वतंत्रता के भाव को जागुत करते हुए आगे बढ़ते जाता है उसको हताशा निराशा जैसे पल मे साहस परिपुर्ण रहता है।

जन्मदिन की मुबारक हर साल उल्लसपुर्ण हो इसकी कामना हम करते है और आशा करते है कि जीवन मे उल्लासित रहे। जीवन की हर कामना पुरी होती रहे। जय हो।

लेखक एवं प्रेषकः अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को जुरुर पढ़ेः-

error: Content is protected !!