sneha

143 Posts
हवा का झोंका

हवा का झोंका

हवा का झोंका यूँ तो रिस्तो मे रुठने मनाने का क्रम जारी रहता है। लेकिन यदि बात साधारण सी हो तो इसका सामाधान जल्दी निकल आता है, लेकिन यदि कोई गंभीर मुद्दा का सामना करना पड़े, तो इसके समायोजन मे समय के साथ-2 मानसिक व्यायाम भी करना पड़ता है। एक दुसरे के प्रति लगाव रखने वाले यदि स्वयं के प्रती बफादार होते है तो हल का निकालना सुनिश्चित रहता है। चाहत की गाठें बिकर्षण को घटाने का कार्य करती है। समझ का दायरा बढ़ने लगता है।    करीव आने मे यदि स्वाभिमान आड़े आयो तो भी इसका हल निकल जाता…
Read More
सोलहवां जन्मदिन

सोलहवां जन्मदिन

सोलहवां जन्मदिन एक बिशेष समय होता है। ये जिवन का एक ऐसा मोड़ होता है जहां से विकाश की अनेक धारायें निकलती है। यह समय नियंत्रण एवं निश्चय का यदि हो तो आने वाले समय के साथ हम अपना न्याय कर सकते है। यदि हम यहां कोई चुक कर बैठते है, तो आने वाला समय हमारे लिए कठिन हो जायेगा। हमारा भौतिक शरीर एक बदलाव की दौर से गुजर रहा होता है। नयी-नयी अनुभुतियों का संचार हमारे शरीर मे होने लगता है। बहुत सारी जानकारी को छुपाकर हम रखते है। यह यदि हमारी बृती बन जाये तो हमारा मन कलुषित…
Read More
रजिस्टारर का पहला दिन

रजिस्टारर का पहला दिन

नियुक्ति के पद का पहला दिन जीवन के अनमोल पल मे से एक होता है। कर्मपथ पर चलते हुए उसके सर्वोच्य पद पर पदासिन होना एक सुखद अनुभूति तो देता ही है साथ ही गौरव का मनोवल भी सदा बना रहता है। अंकल जी के लिए यह पल ऐसा ही था। कार्य बिरक्ति के समय मे इस तरह के अवसर मिलना बाकई एक उच्च बिचार के प्रतिनिधित्व को सराहना कहा जाना चाहिए। महत्वपुर्ण एवं जिम्मेदारी भरा पद से व्यक्ति की प्रधानता को समझा जा सकता है। एक स्वस्थ्य राजनीति को समझने वाले तथा जीने वाले के लिए बिचार की महत्ता…
Read More
error: Content is protected !!