sneha

125 Posts
एक पुकार

एक पुकार

एक पुकार 21 वीं सदी मे समाज के बढ़ते सुख के साधन के साथ चुनाव की समस्यायें भी बड़ी हो गई है। जीवन की वास्तविकता से सत्य को खोजता मानव सुखी और संतुष्ट होना चाहता है, लेकिन उसके पास जो, स्रर्वश्रेष्ठ आरोहन करने की मनोभाव है, उससे एक पुकार बनी रहती है। इस पुकार के आंतरिक हलचल को बाहर के व्यवस्था से पुर्ण हुआ जाना जरुरी है।     तनाव रहीत मन मस्त होता है। मस्त मन को बदलाव अच्छा लगता है। वदलाव के साथ जो खुशी का तरंग आता है, उसको विस्तार की जरुरत होती है। विस्तार के साथ सहयोग…
Read More
शक्ति कलश

शक्ति कलश

शक्ति कलश एकात्म बिचार से लोगों को जोड़ने के लिए हिन्दु जनमानस को यज्ञ के माध्यम से उत्साहित किया जाने वाले ये कार्यक्रम गायात्री परिवार की एक महत्वकांक्षी योजना है। धार्मिक उत्सव से जन आन्नदोलन के द्वारा वर्गिकृत समाज को एक पटल पर लाकर विकास की प्रक्रिया को उच्चतम स्तर पर ले जाने का ये प्रयास लगातार चल रहा है।     शक्ति कलश की यात्रा से यज्ञ की शुरुआत किया जाता है लोगों के भावनाओ को नये सिरे से सुत्रवद्ध करते हुए जीवन मे आगे बढ़ने के गुण को नवीकृत करके बिचारोन्नमुख से उत्साहवर्धन का योग गुणकारी है। संबंधित लेख…
Read More
पल दो पल

पल दो पल

पल दो पल खुशियों को पाने के लिए हम लोग लगातार प्रयासरत रहते है, जीवन के जिद्देजहद से बाहर निकलने की हमारी लगातार कोशिश का एक पड़ाव दोस्ती आता है जिसमे हमारी भावनाए अपने चरम स्तर पर होती है। हम खुल के वातचीत करते है जिससे हमारी आंतरीक विचार को प्रवलता मिलती है। हमारी कमजोरी को समझने तथा उसे दुर करने का सुगम मार्ग को ढ़ुढ़ने का तरीका भी मिल सकता है। हमारा उल्लासित मन हमें सतत विकास की ओर उन्नमुख रहने के लिए उत्साहित रहता है। पल दो पल से हमारा तातपर्य है दोस्ती के भाव पुर्ण संवाद से…
Read More
भाव के मंदिर

भाव के मंदिर

भाव के मंदिर मंदिर के प्रकृति तथा उसका आभामय विन्यास को लेकर हमारे मन मस्तिष्क में जो बिचार उतप्लावित होता है उससे एक भाव का निर्माण होता है जो हमे कुछ सिखने के लिए प्रेरित करता है। यही प्रेरणा हमें मंदिर ले जाती है और उस उतप्लावित भाव को स्थाई रुप देते हुए जीवन उत्कर्ष को आगे बढ़ाती है।    भाव सदा एक जैसा नही रहता है इसकी प्रकृति समय के साथ बाहरी व्यवस्था से बदलात रहता है लेकिन हमे जो बिचार आनंद देती है उसका हमारे जीवन मे बड़ा ही महत्व होता है। इसलिए भाव के प्रकार से हमारे…
Read More
घुंघट की आरजू

घुंघट की आरजू

घूंघट की आरजू घुंघट की मर्यादा को निभाने के लिए बहु संकल्पित होती है जिससे की कुल-खनदान की मान-मर्यादा की रक्षा हो सके। बिचार मे द्वंद्ध होने से बिखराव होता है, खुबसुरती के आकर्षण से लगाव होता है, लेकिन घुंघट के बनाव से प्रेम भरा आशीष का योग बनता है, जो परिवार के विकास के लिए जरुरी होता है। परिवार के सभी सदस्य को अपनी सीमा मे रहकर कार्य करना होता है जिससे की विकास की धारा बहती रहै। धुंघट मे लिपटी बहु की आश बड़ी होती है क्योकि उसको एक सिमित दायरे मे काम करना होता है वांकी के…
Read More
कुलदीपक

कुलदीपक

कुलदिपक अल्पकालिक जीवन के भविष्य की पहचान कुलदीपक से होती है, इसके आगमन से परिवार का जहां निर्माण होता है वही एक उम्मीद की किरण दिख जाती है। जीवन के अंतिम पन में सेवा की तमन्ना भी यहां से आकार लेने लगती है। मानव जीवन को अपने वैभवशाली अतीत को आगे ले जाने के लिए भी कुलदीपक की जरूरत होती है। दिर्ध सोंची मानव को समय के साथ आगे चलने की प्रेरणा भी प्रकृतिक विधान से ही मिलता है। जीवन की गम्भीर चुनौती का समना करते हुए किसी अनहोनी की आशंका मन को उद्वेलित करती है वही पर संपत्ती की…
Read More
दो हाथ

दो हाथ

दो हाथ जीवन में आगे बढ़ने के लिए सतत सार्थक प्रयास की जरूरत होती है। इसके बाबजूद यदि सफलता नहीं मिलती है तो सामूहिक प्रयास की अवधारणा की जाती है जिससे की कार्य संपादन के विभिन्न पहलू को सही तरह से समझते हुए आगे बढ़ सके। कार्य के विभिन्न पहलुओं को समझने के लिए अलग अलग गुण वालों को एक साथ एक धारा में कार्य करते हुए सफलता की ओर बढ़ना होता है। इसे सामान्य भाषा में लोग हाथ मिलाकर कार्य को गति देना कहते है। प्रयास के द्वारा समस्या के समाधान को गुणकारी व्यक्ति स्वयं के समर्थ से कार्य…
Read More
मुस्कान और थकान

मुस्कान और थकान

मुस्कान और थकान रिस्तो मे भावनाओं को समझने की कला के साथ एक दुसरों को खुश रखने की मनोबृती बनने लगती है तो सुख और समृद्धी का अनोखा मौसम छा जाता है। आस परोस बन्धु बांधव के साथ भी हमारा व्यवहार अनोखा होने लगता है। कहते है शुरुआत खुद से हो और आगे बढ़ाते जाए तो बिश्वास भी मजबुत होने लगता है। समय के साथ होने वाली परेशानी और उससे निपटने के तरीके को यदी हम सही से नही समझते है या हमारी आकांक्षा काफी उंची होती है और हमारी आमदनी कम तो हम जीवन मे तनाव के साथ जीते…
Read More
मेरा प्यारा बाबू

मेरा प्यारा बाबू

मेरा प्यारा वाबू नन्हा जीवन की हर संकेतपुर्ण बातें प्राकृतिक रुप से शुद्ध और निःछल होता है जो बड़ो को वहुत भाता है जो आगे बढ़ने की प्रेरणा उनमे जगा जाता है। यही जजवा बिकाश का सुत्रधार होता है। जीवन को समझने का सही समय भी यही होता है इस समय सिखने और प्रतिक्रिया देने से उसके भावी जीवन के बारे मे बेहतर कल के निर्माण से सार्थक कदम उठाये जा सकते है, जिससे उसके बिकाश को सही दिशा मिले। हर एक बात को सिखने समझने के लिए भाव और संकेत काफी होते है जो नाजुक खाली मस्तिस्क पर अंकित…
Read More
सम्मान का दर्द

सम्मान का दर्द

सम्मान का दर्द भरोसे की जिन्दगी में जो सम्मान लोगो से मिलता है यह सोचने का समय ही देता है कि यदि यह भरोसा टुट जाय तो क्या होगा। खुश रहने की हमारी हमारी प्रबृती हमें बिषम परिस्थिती के बारे मे सोचने से रोकती है क्योकि उस परिस्थिती की जानकारी के बाद हमारी जागृत चेतना हमे उस घडी का सामना करने के लिए तैयार कर देती है जो खुश रहने के समय के लिए सही नही है। लोग कहते दिख भी जाते है समय आयेगा तो देख लेंगे।  एक दिन भरोसा अचानक टुट गया अब स्वयं की गुणकारी भाव के…
Read More
error: Content is protected !!