राही

जीत के राही

जीत के राही

जीत के राह बनाने वाले को आँखों की भाषा समझ मे आती है यानी की बॉडी लैग्वेज या शरीर की भावनात्मक संकेतिक भाषा की वारीकी समझ होती है। अपने इस गुण के कारण वह परिस्थिती को समझ कर अपनी तैयारी उसी के अनुसार करते हुए तैयार हो जाते है। इसके कारण वह हर मुश्किल को समाना करने की कला जान जाता है। जिसके कारण उसके विश्वास मे उतरोत्तर विकास होता है। रास्ते मे बाधाओ की परेशानी हो सकती है जो उसे व्यथित नही करता है। वल्कि कार्य का मुल्यांकन कार्य के साथ करते हुए अपनी सतर्कता को मजबुत बना लेते…
Read More
error: Content is protected !!