विश्वास

साथी और प्यार

साथी और प्यार

साथी और प्याऱ जीवन मे आगे बढ़ने के लिए सतत प्रयास की जरुरत होती है। विकास के इस प्रक्रिया को अपने मंजिल तक पहुँचना होता है। इसके लिए खुद पर विश्वास होना जरुरी होता है। खुद पे विश्वास के लिए कार्य को सही तरह से किये जाने योग्य सारी जानकारी समय से मिलनी चाहिए। जिससे की कार्ययोजना को सही रुप से निरुपित किया जाय। जब सही कार्ययोजना होगा तो इसका निस्पादन भी सही होगा। विकास करने वाले बहना नही बनाते है वल्कि वह इसके लिए सतत प्रयासरत रहते हुए कार्य संपादन करतें हैं। जब कार्य का दायरा बड़ा होता तो…
Read More
दो हाथ

दो हाथ

दो हाथ जीवन में आगे बढ़ने के लिए सतत सार्थक प्रयास की जरूरत होती है। इसके बाबजूद यदि सफलता नहीं मिलती है तो सामूहिक प्रयास की अवधारणा की जाती है जिससे की कार्य संपादन के विभिन्न पहलू को सही तरह से समझते हुए आगे बढ़ सके। कार्य के विभिन्न पहलुओं को समझने के लिए अलग अलग गुण वालों को एक साथ एक धारा में कार्य करते हुए सफलता की ओर बढ़ना होता है। इसे सामान्य भाषा में लोग हाथ मिलाकर कार्य को गति देना कहते है। प्रयास के द्वारा समस्या के समाधान को गुणकारी व्यक्ति स्वयं के समर्थ से कार्य…
Read More
error: Content is protected !!