गुलाब का जादू

गुलाब का जादू

एहसास का संदेशवाहक गुलाब अपने अंदर पुरी सक्रिता को नियंत्रण का कारक बनता है। प्यार के उत्साह के निरुपण को यह काव्य सामने वाला पर गहरा प्रभाव छोड़ता प्रतित होता है।

Continue Reading
खुद की तलाश

खुद की तलाश

आत्म चिंतन के एक पल के एहसास को वर्णन करता यह कविता सतत चिंतन की प्रक्रिया को बनाये रखने के प्रति पथ के राही को सतर्क करता है। नित के उलझनो से पार जाने का एक जुगार ये भी है।

Continue Reading
अन्नदाता

अन्नदाता

भारतीय किसान की मार्गदर्शिका बनकर उसके व्यथा को व्यक्त करता यह कविता समय के साथ जुड़ने तथा सिखने को प्रभावी उपाय मानकर चलते हुए सगठनात्मक बिकाश को आगे लाने की प्रेरना देता है। ज्ञान विज्ञान और कार्य कुशलता के साथ साथ सामुहिक बिचार बिमर्ष के स्थान को भी सही मानता है। अन्नदाता की स्थिती 2021 हमारे लिए एक चुनौती पुर्ण समस्या है।

Continue Reading
आरती छठी माईं की

आरती छठी माई की

दिव्य रुप छठी माईया की आरती 2021 माता के साक्षात दर्शन को प्रतिबिवित करते हुए मनोकामना को पुर्ण करने का साधन है। भाव विहल भक्त के भाव को दर्शाता यह आरती सम्पुर्ण चेतना को जगाता है। जागृत भक्त के भाव की अभिव्यक्ति का साधक आरती माता को समर्पित है।

Continue Reading
आरती लक्ष्मी जी की

आरती लक्ष्मी जी की

आरती लक्ष्मी जी की 2021 माता के प्रती हमारी आगाध श्रद्धा को व्यक्त करता एक अभिव्यक्ति है, जिससे माता से हमारा आत्मसात होता है। हमारी कनोकामना को् पुरा होने का एक विश्वास जागता है। माता के दिव्य रुप को दर्शाता यह पाठ आरती के रुप मे साक्षात माता का दर्शन कराता है।

Continue Reading
करवा चौथ

करवा चौथ

आपसी रिस्तो मे भक्ति से शक्ति तथा इसका समायोजन के मुल्य को निर्धिरत करता करवा चौथ का पर्व हमें सामाजिक मान मर्यादा का पाठ पढ़ाता है। रिस्तो को मजबुती के आधार को सुदृढ़ करता है। समय के साथ होने वाले परिवर्तन को नियंत्रित करके एक योग को स्थापित करता है।

Continue Reading
मां दुर्गा और युद्द भूमी

मां दुर्गा और युद्ध भूमी

बिजयादशमी का पर्व मां के शौर्य गाथा को दर्शाने का दिन है। यह हमे पाप पर धर्म की बिजय के एक युग की कहानी को कहता है। हमारे लिए तो आज भी युद्द भूमी सज जाती है और हम माता को याद करते है। माता हमें सत्य पर लड़ने की शक्ति देती है। जिससे की शांंती और स्थिरता बनी रहे। जय मां

Continue Reading
दुर्गा माता की आरती

Durga Mata ki Arti

दुर्गा की नविन आरती हमारी कामना तथा माता के प्रति हमारी अगाध लगाव को दर्शाता हमारी प्रर्थना है। हम माता से अपनी सानिध्य, तथा भक्ति के प्रगाढ़ता को व्यक्त करते है। माता के दिव्य रुप का साक्षात दर्शन से जो मार्ग दर्शन हमे प्राप्त होता है उससे हमारा पुर्ण बिकाश होता है। ये प्रार्थना हमे मार्ग दर्शक का कार्य करती है।

Continue Reading