आनन्द चतुर्दशी

Anand Chaturdasi

आनन्द के धागा बन्धाने का पर्व आनन्द भगवान को समर्पित है, जिसमे मु्ख्य पुजा भगवान बिष्णु की होती है। भगवान इस धागा को बांधने वाले के घर आनन्दित रहने का आर्शिवाद देतै है। महिला बाये तथा पुरुष इसे दाहिने हाथ मे बांधते है।

Continue Reading
विश्वकर्मा पुजा

Vishwakarma Puja

प्रकृति के रचनाकार एवं शिल्पकार विश्वकर्मा आज हमें शक्ति दो कि हम वर्तमान के चुनौती का सामना कर सके। मानव के विकाश की पराकाष्ठा दुसरे ग्रहो पर भी जाये ऐसी हमे उन्नती दो। मेरे अंदर एक उत्साह का भाव भर दो।

Continue Reading
Chaurchan poem

Chaurchan

पुत्र को दिर्धायु बनाने के लिए चौरचन पर्व को करती माता, समाज के शुद्ध स्वरुप को अपने पुत्र मे स्थापना की मांग करती है। निष्कलंक बिकाश की कामना भगवान गणेश से करती हुई ब्रत को पुरा करती है।

Continue Reading
तीज

Teej

पति के लिेए आयु मांगती पत्नी तीज करती है, और नाजुक रिस्ते मे नया रंग भरती है। माता पार्वती को समर्पित यह पर्व पुर्णतः निर्जला होता है।

Continue Reading
US troops leave Afghanistan

US troops leave Afghanistan

तिसरा बिश्व युद्द की शुरुआत के मध्यकाल का समय चल रहा है। इसके एक दुसरे को निचे दिखाने की होर है। अमेरिका का अफगानिस्तान छोड़ना इसी से प्रभावित है। नये बिचार की एक धारा को स्थापित करना एक बड़ी चुनौती है। इसको अमेरिका ने समय पर छोड़ दिया है।

Continue Reading
कृष्ण जन्माष्टमी कविता

Krishna Janmashtami

कृष्ण जन्माष्टमी मानव समाज को आपसी रिस्तो की समझ के साथ राष्ट्र की चेतना को बनाये ऱखने के लिए जरुरी तथ्य को की ओर इसारा करता है। हमारा कर्तव्य है कि हम सतर्क तथा सहज रहे लेकिन प्रयासरत रहे।

Continue Reading
अखण्ड जाप कविता

Akhand Jap

अखण्ड जाप कविता चंचल मन को स्थिर करने के एक उपाय है जिसमे एक प्रयोजन को स्थापिता किया जाता है जिससे की मन को चेतना की प्राप्ती होती है। आजकल के भाग दौर के जिवन मे इस तरह के युक्ति शान्ति का एक उपाय देती है।

Continue Reading
रक्षा बन्धन कविता

Raksha Bandhan

रक्षा बन्धन पर कविता रक्षा बन्धन कविता रक्षा सुत्र के बन्धन को प्रस्तुत करता है। हमे समाज को एक सुत्र मे बांधने के लिए कई तरह के बिधान से गुजरना परता है उसी मे से एक है रक्षा बन्धन का त्योहार।

Continue Reading
चौथी सावन सोमवारी कविता

Fourth Sawan Sombari

सावन की चौथी सोमवारी कविता भगवान शिव भक्ति की प्रगाढ़ता का भाव पुष्प अर्पित करते हुए जो भक्त के मन मे उठता है। उसी भाव को दर्शाता यह कविता शिव से बिशेष शक्ति की अनुऱोध कर रहा है। भक्त की भक्ति का यह अनुपम संयोग का बर्णन आपको अवश्य अनग्रहित करेगा।

Continue Reading
75 th independence day poem

75 Independence day

75 वां स्तवतंत्रता दिवस कविता हमारी चेतना को जगाकर एक दृष्टिगत बिचार का संपादन करती है जो हमें आने वाली चुनौती को रेखांकित करती है। यह भाव हमारे अंदर एक नई संबेदना पैदा करती है, जो उत्साह को जागृत करने का कार्य करती है।

Continue Reading