दोस्त को श्रधांजली

दोस्त को श्रधांजली

दोस्त की श्रधांजली

दोस्त आपकी सम्पुर्ण यादो को पुर्ण रुप से  संकलन करना संभव नही है लेकिन आपके यादो को एक रुप देकर आपनो तक संदेशा पहुंचाना जरुरी है। ताकि सबके भाव एक दुसरे मे समाहित हो जाये। हमारे द्वारा यह काव्य संकलन इसीमे किया गया एक छोटा सा प्रयास है। दोस्त के खालीपन को भरना संभव नही है। क्योकि बिता कल वापस नही आता बस आती है तो जाने बाले की यादे। ये ओ दौलत है जो एक दोस्त को एक-दुसरे से अलग करता है। यादो का भंडाक दोस्ती की सौगात होती है। जिसमे हम बिते पल को फिर से जिवंत बना देते है। जोये पल की एक धुंधली तस्वीर आकर हमे जगाती है तथा यह याद दिलाती है कि जिवन प्रगतिशिल है। हर पल को अपने सांचे मे ढ़ाल लो जो तुम्हारी याद बनने वाली है। जय दोस्ती

लेखक एवं प्रेषकः- अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को जरुर पढ़ेः-

  1. सीडीेएस बिपिन रावत को श्रद्धांजलि हमे भारत के प्रति आगाध प्रेम की ओर प्रेरित करता रहेगा। काव्य लेख पढे।
  2. दोस्ती का सफर श्रद्धांजलि एक आत्मियता के भाव को दर्शाता काव्य लेख प्ररित करता है, व्यवस्थित रहने के लिए।
  3. दोस्त को श्रद्धांजलि यदी उनको असामयिक शरीरिक यात्रा छोड़ना पड़े तो एक चिंतन बनता है। यह काव्य लेख एक चिंतन को कहता है।
  4. यादों का सफर एक यात्रा की कहानी का योग है जिसमें विकाश की यात्रा का महोक वर्णन है। काव्य लेख संकलन को देखें।
  5. स्वर कोकीला को लता मंगेशकर को योद करके स्वयं को विकाश की ओर अग्रसर होना एक गुणात्मक योग है।

By sneha

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!