जोगीरा3

मुड़ मुड़ कर देखे

मुड़ – मुड़ कर देखने की क्रिया मुलतः भाव प्रधान कार्य को निरुपित करता है। जब व्यक्ति अपने भाव के अनुरुप व्यक्ति को अपने करीव पाता है तो वह उसको जानने की कोशिश करता है। इसी को लेकर वह बार – बार देखता है। जब वह पुरी तरह से आश्वस्त हो जाता है तब ही अगले कदम के बारे मे सोचता है। कभी पति ही अपनी पत्नी की परीक्षा लेने को उत्सुक हो जाता है। प्यार मे यदि शक का भाव दिखने लगे तो इसका निराकरण होना जरुरी है नही तो यह भाव उसे अंदर ही अंदर खोखला कर देगा।

इस जोगीरा मे पति के द्वारा किये जा रहे जांच परीक्षा पर व्यंग पुर्ण प्रहार किया गया है जिससे की आनेवाले समय मे लोग आश्स्त हो सके कि यह प्रकृया गलत है। पत्नि पति के व्यहार मे संफल होकर एक दुष्टांत पेश करती है तथा इस कार्य पर एक व्यंग भी है। समाज मे होने वाले आशंका को दुर करने के लिेए यह जोगीरा बड़ा ही रोचक रचना है।

नोटः- आप इस लिंक को अपनो तक जरुर प्रेषित करे जिससे की उसका भी कल्याण हो सके।

लेखक एवं प्रेषकः- अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को जरुर पढ़ेः-

  1. होली के जोगीरा को दर्शाता यह काव्य लेख अनोखा है।
  2. होली के जोगीरा2
  3. होली के जोगीरा3
  4. होली के जोगीरा4
  5. होली के जोगीरा5
  6. होली के जोगीरा6
  7. होली के जोगीरा7
  8. होली के जोगीरा8
  9. होली के जोगीरा9
By sneha

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!