दुर्गा माता की आरती

दुर्गा माता की आरती

दुर्गा माता की आरती

 नवरात्र के शुरु होते ही माता दुर्गा की पुजा आरम्भ हो जाती है। माता की प्रतिमा के स्थापना के साथ ही प्रतिमा मे प्राण प्रतिष्ठा की जाती है। प्रत्येक दिन सुवह-शाम माता की आरती की जाती है। माता की कई प्रकार की आरती गाई जाती है। आरती मे माता का गुणगाण करते है। माता के दिव्य रुप को साक्षात सामने होने का एहसास होता है। ऐसा मानते हुए की माता मेरे सामने खड़ी होते है, तथा माता की आरती उतारते है। भाव विहल मन जो कहता है, उसको शब्द रुप मे बर्णन करना बहुत कठिन है। फिर भी भाव को काव्य रुप मे प्रकट करके माता की आरती उतारतें है।

किसी भी व्यक्ति को यदि हम याद करते है, तो उसके किये गये कार्य का वर्णन करते है। हमारे उनके बिच के रिस्ते का बर्णन करते है, तथा लाभ-हानि की व्याख्या करते है। इससे हमारे अंदर उसके पुरे चरित्र का बिन्यास होता है। ऐसे होने पर उनके चरित्र के अनुरुप हमारा प्रतिक्रिया भी जाहीर होता है, यानी मानो बह हमारे सामने हो। यहां हम इसी भाव को ध्याण मे रखते है। माता के  अतिविश्ट गुण, उनके उपकार, उनके दिव्यता, तथा हम अपनी कामना को ध्यान करते है। ऐसा होने पर माता को हम प्रत्यक्ष रुप से सामने पाते है।

यह नया 2021 का दुर्गा माता के आरती को हम आपके बिच रख रहें है। जब आप माता के सामने इस शब्द का उच्चारण करते हुए आरती करेंगे तो आपको माता के दिव्य रुप का साक्षात भान होगा। आपके माता के प्रति आगाध प्रेम को माता तक पहुँचाने का पुरा ख्याल रखा गया है। इसमे माता के खास तथ्य को ध्याण मे रखकर वर्ण किया रखा गया है

इस नविन दुर्गा माता के आरती से आपको दुर्गा माता का आशिर्वाद प्राप्त हो, ऐसी हम दुर्गा माता से आराधना करते है। करुणामयी माता को जो भक्त दिल से याद करता है माता उनकी हर ईच्छा पुरी करते है। भक्त वत्सल माता भक्त के भाव मे खो जाते है। आपको माता की आरती से आपका समग्र कल्याण हो ऐसी कामना हम करते है। जय मां दुर्गा

नोटः यदि आपको यह आरती अच्छी लगे तो अपनो तक इस लिंक को जरुर भेजे माता आपकी हर मनोकामना पुरी करेंगे। जय मां दुर्गा

लेखक एवं प्रेषकः- अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को जरुर प़ढ़ॆः-

1. आरती लक्ष्मी जी नया आरती 2021 है जो हमारे माता के प्रति आगाध श्रद्धा को व्यक्त करता है, दिव्य रुप को दर्शाता यह नया आरती का गान करें।

2. दुर्गा माता की आरती नया आरती 2021 माता के दिव्य रुप के हृदय के पास लाकर माता की आराधना को व्यक्त करता आरती का गान जरुर करें।

3. करवा चौथ का पर्व हम पुरी श्रद्दा एवं विश्वास के साथ मनाते है इस काव्य लेख को जुरुर देखे जिससे की आपका पर्व के प्रती निष्ठा मे प्रगाढ़ता आये।

4. कृष्णाष्टमी पर्व मे भगवान कृष्ण की दिव्य दर्शन की सिख को समाहित यह काव्य लेख आज के संदर्भ मे जोड़कर कहा गया है।

4. तीज का पर्व भारत मे परमपरा के साथ मनाया जाने वाला पर्व है इसके बिभिन्न रुप का काव्य वर्णन देखें।

5. विश्वकर्मा पुजा हमारी भक्ति भाव सतत रुप है जिससे हम नयेपन की कामना करते है, इस भाव के दर्शाता काव्य लेख देंखें।

6. पहला सोमवारी ब्रत, दुसरा सोमवारी ब्रत, तीसरा सोमवारी ब्रत, चौथा सोमवारी ब्रत के भक्ति रुप का वर्णन तथा हमारी कामना को दर्शाता यह काव्य रचना एक अनुपम कृती है।

7. आनन्द चतुर्थी का पर्व धागा बन्धन का पर्व है जो हमे हमारी भाव को एक नये आयाम मे श्रजन करता है ।

By sneha

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!