भक्त हनुमान

भक्त हनुमान

भक्त हनुमान

भक्ति की परमानन्द को पाने वाले भक्त हनुमान को भक्त शिरोमणी भी की संज्ञा दी जाती है। भगवान की भक्ति की महीमा को गाने मे समस्त जीवो मे हनुमान का नाम सबसे ऊपर आता है। हनुमान जी ने अपने लिए भक्ति के सिवाय कुछ नही चाहा। यही गुणकारी भाव उनको समस्त जीवो से ऊपर ले गया।

दिन दुखियो को मदद करना भारतीय बिचारधारा की धरोहर रही है। इसी धरोहर के भाव को जिवंत रुप हनुमान जी ने दिये जिसके कारण हम उन्हे भगवान की संज्ञा भी देते है। भक्त के रुप मे उनकी गाथा हम गाते है तो हम उन्हे जगाते है। हम उन्हे बुलाते है। हमारे सामने जो दृश्य बनता है उससे हमारे भाव की तारतम्यता गुणित होने लगती है और हम अपने आराध्य को सामने पाते है। फिर हमारी कामना के अनुरुप ही हमे ज्ञात प्राप्त होता है और फल की हमारी अंतिम इच्छा भी पुरी हो जाती है।

भारतीय संस्कृति मे भक्तो की कमी नही है एक से बढ़कर एक भक्त हुए है जैसे गुरु भक्त आरुणी, एकलव्य, बालक ध्रुव, प्रहलाद, महाभारत के अर्जुन आदि अनेको नाम है, लेकिन किये गये कार्य के रुप मे भक्ति को सिर्फ चाहने वाले भक्त हनुमान जी की उपमा सबसे ऊपर है।

समय की धुरी चलती जा रही है लेकिन हनुमान जी की भक्ति और शक्तिशाली होती जा रही है। इसका कारण उनके भक्ति के प्रति अनन्य भाव का होना ही है। मानव सामाज के वे दुर्गुण जिसपर पुर्ण रुप से बिजय पाना आज भी कठीन कार्य है भक्ति के मार्ग मे बाधक बनकर खड़े हो जाते है। सुख की कामना को आगे लाकर चलने वाला जीव परोपकारी कार्य को कैसे करे। यदि परोपकारी हो भी तो स्वयं के लिए क्या चाहे। यह चाहत ही हमारी उज्जवल भविश्य के निर्माण की पुजी है। यदि चाहत ही सेवा हो तो और क्या बचता है। बचता है वो गुण जिससे सेवा के कार्य संभव हुआ और यह मानव समाज को हमेशा उत्प्रेरित करता रहेगा। क्योकि सेवा से जो जीव को आनन्द प्राप्त होता है उसका पारितोषिक तो उसका गुणगान ही बच जाता है, क्योकि यदि सेवा करने वाले कुछ न मांगे तो गुण गुणित होकर फैलेगा ही।

हे भक्त शिरोमणी आपने जो स्थापित किया इसका मुल मंत्र जो भी रहा हो लेकिन मानव समाज को यह संदेश मिल ही गया की सेवा अगर करनी हो तो निःस्वार्थ करो। मन को निश्छल रखो। अपने आंतरिक भाव को दवाओ नही बल्की सबको बताओ। तुम उपने सेवक की गाथा को दुसरे से सुनो जिससे की ये पता चले की तुम्हारा किया गया सेवा की उच्यता कितनी है। यदि यह भाव आज सभी जीव आपना ले तो धरती पर स्वर्ग को पा ले, क्योकी कामना की पुर्ती होता देख मन तरंगित होगा और वह परमानन्द को पा जायेगा।

कौन भक्त, कौन भगवान यह समस्या तो हठी के लिए मुश्किल पैदा करता है, लेकिना सामन्य जन तो आंतरिक भाव से ही समझ जाते है। हमारे समाज और दिव्य शक्तियां भी इस तरह के भाव वाले को किनारा कर देते है जिससे वह अपने जीवन समय मे ही इसका जबाव पा लेता है।

आपकी सेवा करने वाले भक्त को भक्ति प्राप्ती होती है जिससे वह गुणकारी बन मानव समाज की सेवा मे लग जाता है तथा अपने लिए बदले मे कुछ नही चाहता वह आज भी पुजा के पात्र हो जाते है। लोगो का प्यार भी उसे मिलता है। सुख की कामना करने वाले दुख से डरते है यही डर उन्हे किर्ति से गिरा देता है। लेकिन जो सेवा भाव जगाता है वह सदा ततपर रहता है कि हमे सेवक का प्यार प्राप्त हो जाये इसके लिए क्या किया जाय। वह तो कर्य को खोजकर सेवक से आज्ञा पाकर कार्य मे लगा जाता है। सेवापाने वाले निःस्वर्थ सेवक को देखकर जो अहलादित भाव जगाता है वही भाव सेवा करने वाले का फल होता है। सेवक के मुख से जाने अनजाने मे उनके किये गये परोपकार के प्रति श्रधा का भाव जो आता है उससे समाज मे सेवक का यश फैलता है।

हे गुणकारी भक्त हनुमान सेवा की मुत्यू तो हो ही नही सकती है। आज जो आपसे प्रेरणा लेकर सेवा के कार्य मे लगकर स्वयं के प्रती कुछ नही चाहते वह आपको प्राप्त हो जाते है। वह मनो कामना रहीत होकर डर को तो भूल ही जाता है। वह स्वयं भी आपनी सारी आवश्यकता को हंसते खेलते पुरा कर लेता है। जो कार्यशिल है भगवान उन्हे ही शरीरिक उन्नति का बरदान देते है जिससे वह रोग व्याधि से मुक्त रहता है, तथा आनन्दित जीवन का शाश्वत आनन्द लेता है। उसे पाकृति की सुषमा बहुत भाता है। कृतिमता का वास उसे आनन्दित कर ही नही सकता क्योकि वह तो कामना का मार्ग छोड़ चुका है। हे प्रभु आपकी महीमा आज जागी है, क्योकी आज आपका जन्मदिन है। यह भाव समस्त जीव मे पहुँचे यह हमारा भी प्रयास है।

आज जिन्दगी को मुल्यवान समझने वाले कम हो गये है। स्वयं को प्रतुत्वशाली के रुप मे स्थापित करने को लेकर, राक्षसी प्रबृति को अपनाने मे आमदा है। मानव मुल्यो का जीतना भी हनन हो लेकिन उनकी प्रभुसत्ता कायम हो, यह प्रबृति ही आपसी बिवाद को जन्म देती है। घात प्रतिधात के बिच ठहरने वाला खुशी बहुत छनीक होते हुए भी शक्तिशाली होता है क्योकि व्यक्ति सुख का श्रोत बाहर खोजता है। इस उलझे बिचार मे वह स्वयं उलझ कर अपनी जीवन समाप्त कर देता है साथ ही मानव के बिच एक कहानी छोड़ जाता है, जिसका इतिहास मुल्यांकन कर उसे सजा सुनाता है। जो समाज के लिए एक उपदेश बनकर समाज मे चलने लगता है।

हे मानव भक्ति का बिज्ञान बहुत ही अनुठा है। इसको समझने के लिए गहन अध्ययन की जुरुरत है। समान्य मन मे इस बिचार तरंग को व्याखित करना संभव नही है। आप यदी भक्ति के गहराई मे गोता लगायेगे तो पायेगे की पाकृति को समझकर उसका लाभ उठाने के लिए उसके सानिध्य मे रहकर ही उसको महसुस किया जा सकता है। जो समझ आप पाते है वह आपकी पुंजी बन जाती है। आपके द्वारा किया गये कार्य की सफलता की महत्ता बढ़ जाती है। इसलिए इस कार्य को आज ही शुरु करते हुए परम भक्त हनुमान जी की श्रद्धा के पात्र बन जाओ। जय हनुमान।

नोटः यदि यह लेख आपको अच्छा लगे तो इसके लिंक को अपनो तक जरुर प्रेषित करे जिससे की आप पुण्य के भागीदारी हो।

लेखक एवं प्रेषकः- अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को जरुर पढ़ेः-

1. आरती लक्ष्मी जी नया आरती 2021 है जो हमारे माता के प्रति आगाध श्रद्धा को व्यक्त करता है, दिव्य रुप को दर्शाता यह नया आरती का गान करें।

2. दुर्गा माता की आरती नया आरती 2021 माता के दिव्य रुप के हृदय के पास लाकर माता की आराधना को व्यक्त करता आरती का गान जरुर करें।

3. करवा चौथ का पर्व हम पुरी श्रद्दा एवं विश्वास के साथ मनाते है इस काव्य लेख को जुरुर देखे जिससे की आपका पर्व के प्रती निष्ठा मे प्रगाढ़ता आये।

4. कृष्णाष्टमी पर्व मे भगवान कृष्ण की दिव्य दर्शन की सिख को समाहित यह काव्य लेख आज के संदर्भ मे जोड़कर कहा गया है।

4. तीज का पर्व भारत मे परमपरा के साथ मनाया जाने वाला पर्व है इसके बिभिन्न रुप का काव्य वर्णन देखें।

5. विश्वकर्मा पुजा हमारी भक्ति भाव सतत रुप है जिससे हम नयेपन की कामना करते है, इस भाव के दर्शाता काव्य लेख देंखें।

6. पहला सोमवारी ब्रत, दुसरा सोमवारी ब्रत, तीसरा सोमवारी ब्रत, चौथा सोमवारी ब्रत के भक्ति रुप का वर्णन तथा हमारी कामना को दर्शाता यह काव्य रचना एक अनुपम कृती है।

7. आनन्द चतुर्थी का पर्व धागा बन्धन का पर्व है जो हमे हमारी भाव को एक नये आयाम मे श्रजन करता है ।

8. गायत्री बन्दना बेदमाता से मनोकामना पुर्ण हेतु भक्त के द्वारा किया गया ह्रदयगत काव्य रचना है जो सिधा माता के आवाह्न को निर्धिारित करता है।

9. महाशिवारत्री का पर्व सर्वमनोकामना के लिए किया जाता है। जीवन को अध्यात्मिक सुख तथा संसारिक सुख को पाने के लिए कैसे योग को बनाया जाय इसका ज्ञान यहां मिलता है।

10. रामनवमी का हमान पर्व भगवान राम के जन्म के पावन दिन को याद करते है जो मानव समाज के आदर्श राजा के रुप मे आज भी हमारे बिच बिराजमान है।

By sneha

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!