खुद की तलाश

खुद की तलाश

खुद की तलाश

खुद की तलाश एक कठीन कार्य है, क्योकी लोग व्यवस्था की धारा मे जीये चले जाते है। उन्हें कभी खुद के लिए समय निकलता ही नहीं है, जिससे की वह देख सके की वाकई उसकी यात्रा का पड़ाव कहाँ होने वाला है। उसे लगता है, कि वक्त की इस अनमोल पल को रोककर व्यर्थ क्यो चिंतन करे। लेकिन व्यवस्था की अपनी सिमा होती है वह उसी के अनुरुप अपना कार्य करती है। य़दि आपके सामर्थ मे उसे समझने की क्षमता की विकाश है, तो आप वक्त की कठीनाईयो से आसानी से पार लग जायेंगे अन्यथा आपको बदले व्यवस्था मे जीना पड़ेगा।

       लेखक इसी व्यथा को व्यक्त करता हुआ खुद की तलाश करता है। आज उन्हें यह मैका मिला है, लेकिन मुस्किलें बढ़ गई है। नयी चुनौतीयों का सामने करते हुए अपने स्वप्न को प्रतिबिम्बित करना एक कला है। जो इस कला को समझ लेता है, वह समय के साथ अपने को ढ़ालने का गुणी बनकर आगे निकल जाता है। जहां से उसे बिते हुए पल की यादे सदा उद्वेलित करती रहती है

भारतीय ग्रंथो तथा शास्त्रो मे इस तरह की समय से निकलने के गुड़ दिये गये है। लेकिन वक्त की आपाधापी मे व्यस्त मानव के पास इतना समय कहां है, कि वह खुद को तलाश कर सके। हे मानव तुम्हारी आत्मा कालातीत है, तुम वक्त के राही हो, थोड़ा सम्भल लो फिर तुम खुद के साथ सही न्याय कर पाओगे। आज एक लेखक ने एक आवाज दी है, थोड़ा रुककर समझने का बिचार तो बनता ही है।

नोटः यदि यह कविता लेख अच्छा लगे तो अपनो तक इसके लिंक को जरुर भेजें जिससे की उसका भी मार्ग दर्शन हो सके। कोमेंट व़ॉक्स मे अपना बिचार जरुर लिखें जिससे की आपके द्वरा भी लोगो को प्रोत्साहन मिले। जय हिन्द

सम्पादकीय लेख एवं प्रेषकः- अमर नाथ साहु

संबंधित लेख को जरुर पढ़ेः-

खुद की तलाश काव्य लेख हमें अंदर झांककर गलती सुधारते हुए जीवन मे सफलता की सिढ़ी को चढ़ने की यात्रा का बृतांत है। आप भी देख लें कही आप भी तो नही.
गुरुर काव्य लेख हमें दैनिक जीवन से जुड़ी तोड़ जोड़ से होने वाले बिसंगती की ओर से सावधान रहने की कला की ओर ईसारा कर रहा है।
स्वाभिमान  की कला से हमे कैसे वक्त की सिढ़ी चढ़नी है इसको व्यक्त करता यह काव्य लेख एक दृष्टि देता है।
वक्त का आईना खुद को नियोजित करने के लिए वक्त के आईने मे खुद को देखना जरुरी होता है, यह लेख इस भाव के जागृत कर हमे एक नयी उर्जा देता है, जिससे की हम समय के साथ चल सके।’,
करोना की वर्षी करोना के यादो को संकलन करने का एक प्रयास है जो हमे एक संदेश दोता है मानवता के प्रति हमारे सतर्कता का, हमारे एकजुटता का।’, ”
श्रधेय बिदाई बिदाई यदि यादगार बन जाये तो इसकी गाथा को याद करके जे सुख मिलता है वह स्वागत योग्य होता है।
गुलाब का जादू फुल तो एक माध्यम है जिसके द्वारा भाव का महत्ता को समझा जाता है।

By sneha

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!