sneha

125 Posts
Pyara gulab

Pyara gulab

प्यारा गुलाब गुलाब से खुद का हिसाब आज के भाग दौड़ की जिंदगी में स्वयं को व्यवस्थित कर पाना एक चुनौती है। इस चुनौती से निकलने का जिद्दोजहद लगातार चलता रहता है। कुछ तो सफल हो जाते है, कुछ भटक कर कही खो जाते है, कुछ का प्रयास अनवरत चलता रहता है। उपरोक्त उक्ति स्वयं के अंदर की भाव को समझने को प्रेरित करता है जिससे की व्यक्ति समय के साथ खुद का न्याय कर सके। हमारे द्वारा अपनाए जा रहे हर विधा का मूल्यांकन समय के साथ समाज के अंदर किया जाता है जिससे हमे स्वयं को स्थापित करने…
Read More
General bogie

General bogie

साधारण बोगी साधारण ट्रेन से सीख यात्रा आजकल एक जरूरी व्यवस्था बन गया है इसके बिना किसी कार्य को समय से निस्पादन करना एक कठीन बिषय है। यात्रा को सुखद आरामदेह और आनन्द पुर्ण बनाने के लिए लगातार प्रयास चलते रहते है। लेकिन कुछ ऐसी घटना जिनका हमने पुर्वानुमान नही लगाया या हमारी जानकारी इस स्तर की नही थी या समझ नही पाई हमे नुकशान दे जाता है। हमारी इसी व्यवस्था से यह शिकायत रहता है लेकिन इसको बिल्कूल सही कर पाना संभव भा नही होता है। साधारण ट्रेन या साधारण वोगी की बातें करे तो यहां की व्यवस्था समय…
Read More
Lovely dear

Lovely dear

प्यारो हो प्यारे हो प्यार की दशा और दिशा को आज के समय मे एक बन्धन मे बांधकर रखना चुनौती है क्योकि जीवन की समझ को विज्ञान ने बदल दिया है। बदले हुए सोच से आगे बढ़ने की ललक तीव्र है साथ ही शारीरिक मानडंड को भी पुरा करना होता है। दोनो को साथ ले चलने मे भटकाव का स्तर चरम पर होता है। सुनियोजित व्यहार के साथ आगे जाता हुआ व्यक्ति ही आपने को सही रुप से स्थापित कर पाता है।      स्वयं को स्थापित कर लेने के वाद भी उसका ये अभियान नही रुकता है वह समय के…
Read More
Marriage circle

Marriage circle

बैवाहिक चक्र बैवाहीक चक्र स्वयं को द्वरा जो प्रयास किये जाते है वह यथेष्ठ होता है तो कभी आत्मगलानी का शिकार नहीं होना होता है। इसी बिचार को संयमित तथा नियमित करना होता है जो हमे व्यहार तथा स्वप्रेरणा से ही सिखना होता है। बौवाहिक जीवन की हर चुनौती को आसान बनाने के लिए कुछ साहसिक उपाय तो किये ही जाने चाहिए जिससे की हमे जीवन की चुनैती को समझने मे सुहिलियत हो। बिचार की इसी प्रवाह को बौचारिक स्तर पर मंथन करते हुए आपको अनुग्रहित करने हेतु हमारा प्रयास है। बैवाहिक जीवन मे आने के साथ ही स्वयं को…
Read More
आजादी के अमृत महोत्सव

आजादी के अमृत महोत्सव

आजादी के अमृत महोत्सव आज हम आजादी के 76 वें वर्ष में है। स्वतंत्र भारत के 75 वर्ष भारतीय समाज को पुर्गठण में एक महत्वपुर्ण भुमिका निभाया है। लम्बी गुलामी के कारण हमें कुंठीत मानसिकता से बाहर निकलने मे हमारे समाज को काफी संधर्ष करना पड़ा है। अब जागरुकता का नया दौर आया है। हम राष्ट्रिय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानडंड को समझकर अपनी प्रतिक्रिया देने लगे है। यही से हमारा भाग्योदय का सुरज भी उपर जढ़ने लगा है। हमारी बढ़ती प्रखरता के साथ हमारी चुनौती भी बढ़ा है इसके साथ हमारी चेतना भी जागृत हुई है। अब हम चुनौती…
Read More
भुक्खड कहीं का

भुक्खड कहीं का

भुख्खड़ कहीं का भुक्खड कहीं का आजकल के आपाधापी जिन्दगी के भागमभाग मे उलझन भी कम नही है। धर्म के घटने से आसुरी प्रबृति जन्म लेने लगी है। बेलगाम बिज्ञान रुपी धोड़े की चाभी उडण्डों के लग गई है, जिसमे मानव मुल्यो का चितन ही नही है। हर बस्तु को बिकाऊ मानकर बजार मे उतार रहा है। अमुल्यवान बस्तु भी हांफने लगी है कि कही उसका भी दाम न लग जाये। यदी ऐसा हुआ तो उसे भी बाजार की प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा। प्यार मोहब्बत के नाजुक रिस्तो भी मौज मस्ती का साधन बनते जा रहे है। टुटते बनते…
Read More
प्यारा बचपन

प्यारा बचपन

Childhood has basic information for success in life. In this time expression of feeling is easy and no any person react seriously but this type of action makes real character of childhood. Working direction and priority of work give the strength of desire in life. Many person try to change it but this is not possible in major form. So your light part of future is visualized through you childhood.time. जीवन को बिकाशोन्नमुख बनाने के लिए आजकल प्रयास बहुत निचे स्तर से शुरु हो गया है। व्यक्ति स्वयं भी खुद को जानने के लिए बचपन की यादोॆ का सहारा लेता…
Read More
जीवन के पार चलो

जीवन के पार चलो

जीवन के पार चलो जीवन के पार देखने वाला दृष्टि पाकर व्यक्ति अहलादित हो सकता है। आन्दित हुए व्यक्ति सतमार्ग पर चलना शुरु भी कर सकता है, लेकिन उसके लक्ष्य तक पहुँचने मे आने वाली वाधा को पार जाने की शक्ति समर्थ का होना भी जरुरी है। इसका पुर्व पुर्ण ज्ञान होना संभव नही है। इसके लिए तो व्यक्ति का संकल्प शक्ति ही याचक बन सकता है। यही वो शक्ति है, जो व्यक्ति को पार जाने के लिए यथेष्ट बल को नियोजित कर बाधा से पार ले जायेगा। हमारे शरीर के अंदर बिभिन्न धटको मे बल समाहित है, जिसका यथोसमय…
Read More
वट सावित्री व्रत

वट सावित्री व्रत

वट सावित्री व्रत    यह व्रत नारी स्वयं को सुहागन बनाये रखने के लिए करती है। सुहागन स्त्री को मानसिक तथा समाजिक दोनो स्तर पर समायोजन पति के द्वारा ही संभव होता है। नारी के मान-सम्मान की रक्षा का प्रभाव पुरुष पर ही होता है। अपने पति को समर्पित पत्नी का जीवन आशा और विश्वास के साथ आगे बढ़ता जाता है। शारीर सौन्दैर्य घटता है तथा विश्वास और टटस्थता बढ़ती जाती है। स्त्री की संवेदना अपने पती के प्रती इतना सुदृढ़ हो जाता है कि वह अपने पति के सिवाय किसी के प्रती सोचना भी पसंद नही करती है। कहते…
Read More

मुर्ती पुजा

मुर्ती पुजा                                                      मुर्ती पुजा का इतिहास बहुत पुराना है। मानव ने जबसे जीवन को समझना शुरु किया तभी से उन्होने चित्र रुप का निरुपण किया। उसके भय को एक सहारे की जरुरत थी। यही सहारा मुर्ति के पुजा का स्थान सुनिश्चित किया। मानव के बिकाश की यात्रा का इतिहास आज के मानव को बुद्दिमान सावित करता है। लेकिन मुल बिषय डर आज भी है। डर का नियोजन समय के साथ तथा व्यक्ति दर व्यक्ति अलग - अलग होता है, तथा किया जाने वाला उपाय भी अलग होता है। लेकिन धार्मिक मान्यता हमारे अंदर जो भाव पैदा करता है, उससे…
Read More
error: Content is protected !!