Month: March 2024

भोगवादी समाज का दर्द

भोगवादी समाज का दर्द

भोगवादी समाज का दर्द विज्ञान ने हमारे सोंच के मूल अवधारणा को बदल दिया है जिसके कारण हमारी सोच भौतिकतावादी होकर रह गई है। इसी भौतिकतावादी सोंच के कारण हमारे अंदर भगवान के द्वारा डंड देने की सोच मे परिवर्तन आ गया है जिसके कारण आज समाज का परिदृष्य बदल गया है। अपराध करने वाले को व्यवस्था का डर होता है जबकि पहले भगवान का भी डर होता था। आज भी कुछ ऐसे लोग है जो भगवान की प्रभुसत्ता को स्वीकारते है और उसके अनुरुप आचरण भी करते है। खुश रहने के लिए अपनाये जाने वाला तरकीव भी यहीं से…
Read More
जीत की समझ

जीत की समझ

जीत की समझ ब्राह्य आवरण से प्रभावित हुए बिना जो वास्तविकता को समझ जाए है उनके जीत की समझ अच्छी मानी जाती है। कयोंकि सत्य को जानने के लिए व्यक्ति को सतत प्रयास करते हुए आगे बढ़ना होता है। भावना के आगोश में बहने वाले जब सुख की खोज करते है तो वह ब्राह्य आवरण में उलझकर सत्य से दूर चले जाते है।
Read More
लहरों की कहानी

लहरों की कहानी

Laharon ki kahani लहरों की कहानी सागर अपनी विशाल जलराशि के कारण शांत बना रहता है। जबकी हवा का झोंका पानी के सतह से जब टकराकर आगे बढ़ती है तो अपने साथ सागर के सतह के पानी को गतिमान कर देती है जिससे सागर मे लहरें बनने लगती है। यह लहरें हवा के झोंकों के साथ आगे बढ़ती जाती है और एक बड़ी लहरें बनकर सागर के तट से टकराती है। लेखक का कहना है कि जो सतह का पानी हवा के संपर्क मे था ओ हवा के साथ चलने लगी लेकिन हवा आगे निकल गई और लहरें की पानी…
Read More
जीत के राही

जीत के राही

Jit ke rahi Jit ke rahi जीत के राही जीत यदी जीवन के कार्यशौली का हिस्सा बन जाय तो समझना होता है कि व्यक्ति को कार्य करने का नजरीया बदल गया है। वह कार्य को जीत के हिसाव से देखता है और स्वयं को उसी तरह से व्यवहार भी करता है। जीत की खुशी सारे खुशी पर भारी परती है। जीतने वाला व्यक्ति का बतचीत और समय प्रवंधन सटीक होता है। उसे पता होता है कि वह क्या, क्यो और कैसे  कर रहा है। उसकी पैनी नजर कार्य के प्रगती पर रहती है। समय के साथ कार्य मे बदलाव की…
Read More
साथी और प्यार

साथी और प्यार

Shathi Aur Pyar साथी और प्यार जीवन मे आगे बढ़ने वाले की पाकृति अलग होती है उसके सोचने समझने तथा व्यवहार करने के पहलू अलग होते है क्योकि वो आगे बढ़ने मे काम आने वाले पहलू पर लगातार बिचार करता रहता है। वह अपनी नियत खुशी को पाने के लिए जो सक्षम प्रयास की जरुरत होती है करते रहने के लिए स्वयं से प्रेरित होते रहतें है। उसकी यही बृती उसके विकास को आगे बढ़ाती है और वह स्वयं को खुशी रखने की लगातार कोशिश भी करता रहता है। इस तरह के व्यक्ति को खुद पे विश्वास होता है क्योकी…
Read More
जीत का घोड़ा

जीत का घोड़ा

जीत का घोड़ा जीत के घोड़ा दौराने वाले का चिंतन मनन विशिष्ट होता है। उसका हर कार्य उसके संकल्प की दिशा से निर्दिष्ट होता है। जिससे वह पल की पल को सहेजता हुआ आगे बढ़ता है। हर कदम पर आने वाली बाधाओं का समाधान करता हुआ वह आगे बढ़ता जाता है। जिससे उसका हौसला बुलन्द होता जाता है। जिससे उसके कार्य उर्जा का स्तर भी लगातार उँचा बना रहता है। उसके शारीरिक मानडंड से लेकर सारे क्रिया-कलाप उसके अपने नियंत्रण मे होते है। इसलिए स्वयं आंकलन उसके द्वारा लगातार किया जाता है। वह अपने मन को खुली छुट नही देता…
Read More
युवा और युद्द

युवा और युद्द

युवा और युद्द युवा होने के साथ ही अंदर की हलचल और बाहर की उथल-पुथल के साथ जीवन को उच्च स्तर से जीने की चुनौती का सामना करना होता है। इसको सही तरह से हल करने के लिए समाज मे स्थापित परंपरा के साथ हमे चलना होता है साथ ही हमे नये संभावना भी तलासने होते है। कुछ नया करने के धनी लोग विभिन्न तरह के विचारो के साथ स्वयं को स्थापित करने की कोशिश मे कुछ सफल हो जाते है तो कुछ असफल होकर एक प्रश्न को जन्म दे जाते है। समय के साथ जीवन को समुन्त करने के…
Read More
इंतजारी की उदासी

इंतजारी की उदासी

इंतजार की उदासी इंतजार हमे बहुत कुछ सीखा देती है क्योकी किसी कार्य को होने के लिए उसका अपना एक समय होता है और हमें उससे जुड़ने के लिए इंतजार करना परता है। लेकिन कभी-कभी ये इंतजार काफी लम्बी हो जाती है जो हमारे सोच के दायरे मे नही आता है। इसका कारण हमें सिमित दायरे मे रहकर सोचना से जुड़ा होता है। हमारी अपेक्षा इतनी बढ़ जाती है कि हम ज्यादा गहरा सोचना ही नही चाहते है क्योकी इससे होने वाले परिणाम को हम स्वीकार नही कर सकते है। संभावना के साथ होने वाले परिवर्तन के लिए यदि हम…
Read More
प्राकृतिक रिश्ते

प्राकृतिक रिश्ते

प्राकृतिक रिस्ते प्राकृति मे होने वाले उथल पुथल से हम प्रभावित हए बिना नही रह सकते है। हमें इसका ध्यान रखना परता है। जितना ही अधिक जानकारी हम इसका रखते है उतना ही हम सुखी रह सकते है। हमारे चारो ओर प्रकृति प्रदत वस्तु मौजुद है। यहां तक की हम भी प्रकृति के ही अधिन है और वातावरण के साथ लगातार संयोजित होते रहते है। प्रकृति के साथ हमारा सबंध प्यार का है यानी की हमारी जीवन और जीवन से जुड़ी सारी खुशी के लिए हम इसपर ही निर्भर करते है। जो लोक प्राकृतिक आवास और मौसम के बिच रहते…
Read More
प्यार की खोज

प्यार की खोज

प्यार की खोज युवावस्था के शुभारम्भ के साथ ही प्यार की सुगबुगाहट होने लगती है। कुछ प्यार मे सफल हो जाते है तो कुछ सफलता के मझदार मे उलझ जाते है। इन उलझे को सुलझने की जरुरत है जिससे की जिन्दगी की नैया को पार लगाया जा सके। वस्तुतः प्यार को चाहने वाले की समझ कुछ अलग होती है। वह अपने कार्य के प्रती ज्यादा जुराव रखते है। उसमे इसके करने के प्रति एक जजवा होता है। जिसे पा जाने के वाद उसके विकाश की दिशा उतरोत्तर हो जाती है। यदि व्यक्ति भूखा हो तो उसको प्यार की चाहत नही…
Read More
error: Content is protected !!